जहां भी आज़ाद रूह की झलक पड़े, समझना वह मेरा घर है। (अमृता प्रीतम)

You may also like...